SUBSCRIBE
FOLLOW US

सर पर छत है पर पानी टपकता है

सर पर छत  है ,

पर पानी टपकता है।

 

खुशियों का अंबार है ,

पर आदमी फफकता है।

 

चारों तरफ नीतिज्ञ  हैं,

पर वह बहकता है।

 

बेईमानी से भरा  है,

पर वो महकता है।

 

सदमें भी सहा है,

पर दूसरों पर चहकता है।

 

कमियां भरपूर हैं,

पर दूसरों की पकड़ता है।

 

आदमी फितरती है,

पर सबको मशकता  है।

 

इतना सब कुछ साथ है,

पर स्व को न पकड़ता है।

About the Author

डॉ गौरव त्रिपाठी
असिस्टेंट प्रोफेसर राजनीति विज्ञान, राजकीय पीजी कालेज लालगंज मीरजापुर

1 Comment on "सर पर छत है पर पानी टपकता है"

  1. JAY SHANKAR PANDEY | September 8, 2019 at 11:29 PM | Reply

    सत्य वचन, सार्थक सृजन गुरुवर 🙏🙏

Leave a comment

Your email address will not be published.


*