सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • YouTube
Loading

डीयू छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने अध्यक्ष समेत 3 पदों पर किया कब्जा, एनएसयूआई को 1 पद

नई दिल्ली। दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) के चुनाव परिणाम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से संबद्ध छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने गुरूवार को अध्यक्ष समेत तीन पदों पर कब्जा कर लिया। कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई को केवल एक ही पद से संतोष करना पड़ा है। बता दें कि डूसू चुनाव में एबीवीपी के अंकिव बैसोया अध्यक्ष, शक्ति सिंह उपाध्यक्ष, ज्योति चौधरी संयुक्त सचिव और एनएसयूआई के आकाश चौधरी सचिव का चुनाव जीते हैं।

एबीवीपी की अंकिव बसोया ने 1744 मतों के अंतर से अध्यक्ष पद पर जीत हासिल की है। इसी संगठन के शक्ति सिंह को उपाध्यक्ष घोषित किया गया है। उन्होंने 7673 मतों के अंतर से जीत हासिल की है। एनएसयूआई के आकाश चौधरी सचिव पद पर जीतने में कामयाब रहे वहीं संयुक्त सचिव पद एबीवीपी की ज्योति को मिला है।

किसे कितने वोट मिले

अध्यक्ष पद के लिए अंकिव बैसोया को 20,467 वोट मिले, जबकि उनके मुकाबले एनएसयूआई को सनी को 18,723 वोट मिले। उपाध्यक्ष पद के लिए एबीवीपी के शक्ति सिंह को मिले 23,046 वोट, जबकि एनएसयूआई की लीना को 15,000 को वोट मिले। सचिव के पद पर एनएसयूआई के आकाश चौधरी को 20,198 वोट मिले, जबकि एबीवीपी के सुधीर डेढ़ा को 14,109 वोट मिले। संयुक्त सचिव के लिए एबीवीपी की ज्योति चौधरी को 19,353 वोट मिले, जबकि एनएसयूआई के सौरभ यादव को 14,381 वोट मिले।

नोटा को कहां कितने वोट मिले

अध्यक्ष के चुनाव में 6211 वोट नोटा को मिले, जबकि उपाध्यक्ष पद के लिए 6435 वोट नोटा को मिले। सचिव पद के लिए 6810 वोट और संयुक्त सचिव पद के लिए 8273 वोट नोटा को मिले।

दोपहर में ईवीएम की खराबी के कारण मतगणना हो गई थी स्थगित 

इससे पहले दोपहर के वक्त ईवीएम में खराबी और छात्रों के भारी हंगामे के चलते मतगणना का काम स्थगित कर दिया गया था। जब वोटों की गिनती स्थगित की गई तब एनएसयूआई के सन्नी छिल्लर अध्यक्ष पद पर और एनएसयूआई के ही आकाश चौधरी सचिव पद पर आगे चल रहे थे। एनएसयूआई के सदस्यों ने काउंटिंग सेंटर के बाहर हंगामा किया। उन्होंने कहा कि एबीवीपी अध्यक्ष पर पीछे चल रही है इसलिए प्रशासन रिजल्ट में छेड़छाड़ की कोशिश कर रहा है। चुनाव आयुक्त प्रो. वीके कौल ने कहा की अभी मतगणना स्थगित की जा रही है। हमने सभी संगठनों का ज्ञापन लिया है। मतगणना अगले आदेश तक स्थगित रहेगी।

कौन सी पार्टी के कौन रहे उम्मीदवार

इस बार कांग्रेस की स्टूडेंट विंग एनएसयूआई ने सनी छिल्लर, लीना, आकाश चौधरी और सौरभ यादव को उतारा था। वहीं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने अंकिव बैसोया, शक्ति सिंह, सुधीर डेढ़ा, ज्योति चौधरी को टिकट दिया था। वहीं, आम आदमी पार्टी (आप) की छात्र इकाई छात्र युवा संघर्ष समिति ने वामपंथी छात्र संगठन अखिल भारतीय छात्र संघ (आइसा) के साथ गठबंधन किया था। इन्होंने अभिज्ञाम, अनशिका, चंद्रमणि और सनी तंवर को उम्मीदवार बनाया था।

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव के लिए बुधवार को वोट डाले गए थे। सुबह में कम विद्यार्थी ही मतदान करने पहुंचे, लेकिन ज्यों-ज्यों समय बीतता गया, कॉलेजों में विद्यार्थियों की संख्या बढ़ती गई। सुबह 9.30 बजे तक सभी 52 कॉलेजों में मत फीसद करीब 18.5 फीसद रहा। जबकि 11.30 बजे आते-आते यह बढ़कर 34 फीसद तक पहुंच गया। 12.30 बजे तक 40.58 फीसद तक मतदान रहा। इसके बाद सुबह के कॉलेजों में दोपहर एक बजे मत फीसद बढ़कर 43.8 फीसद पहुंच गया।

डूसू चुनाव के लिए के लिए 52 केंद्रों पर मतदान हुए। इसके लिए 760 ईवीएम का इस्तेमाल किया गया। मॉर्निंग कॉलेजों में सुबह 8.30 बजे से दोपहर एक बजे तक मतदान हुआ। वहीं इवनिंग कॉलेजों में दोपहर बाद तीन बजे से लेकर शाम 7.30 बजे तक वोट डाले गए। चुनाव मैदान में इस बार कुल 23 प्रत्याशी खड़े थे। इसमें अध्यक्ष पद पर पांच, उपाध्यक्ष पद पर पांच, सचिव पद पर सबसे अधिक आठ और संयुक्त सचिव पद पर पांच उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे।

Disclaimer: इस लेख में अभिव्यक्ति विचार लेखक के अनुभव, शोध और चिन्तन पर आधारित हैं। किसी भी विवाद के लिए फोरम4 उत्तरदायी नहीं होगा।

Be the first to comment on "डीयू छात्र संघ चुनाव में एबीवीपी ने अध्यक्ष समेत 3 पदों पर किया कब्जा, एनएसयूआई को 1 पद"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*