SUBSCRIBE
FOLLOW US

कविता

आप जो ख़्वाबों में आए न होते

आप जो ख़्वाबों में आए न होते बेवज़ह हम मुस्कुराए न होते न फूल खिलते न कलियां मुस्कुरातीं भंवरे यूं गुनगुनाए न होते। आप जो ख़्वाबों में आए न होते   मौसम भी कुछ, ख़ास…

पूरी खबर पढ़ें

खुलकर हँसना मुश्किल है

खुलकर हँसना मुश्किल है दिल भी किसी का दुखता है हम तो हँसते रहते हैं पर ग़म किसी का जी उठता है   कहते-कहते कभी जब हम अचानक से चुप जाते हैं चलते-चलते राहों में…


प्रेम क्या है?

प्रेम खुद को खुद से पहचानने का एक नजरिया है प्रेम आपके अंदर का विश्वास जगाने का जरिया है सन्तान जो अपने माँ – बाप से प्रेम करता है, ऊपर वाला उसका जीवन खुशियों से…


पथ का हर एक कंकर हटा कर जायेंगे 

समय के पृष्ठ पर हम शिलालेख बने या ना बने मानस पटल पर ज़रूर निशाँ छोड़  कर  जायेंगे   ख़्वाब देखें ज़रूर मगर, बदले में हक़ीक़त नहीं सदा ही ज़िल्लत मिलीं महलों की बात तो…