SUBSCRIBE
FOLLOW US

हम देशी हैं साहब 

जब सरकारी कर्मचारियों की छंटनी हो रही हो ,

दिनोंदिन

चुपचाप

बिना कोई शोर

जब सरकारी कम्पनियां बंद कराई जा रही हैं जबरन

मुनाफे के बावजूद ,

दिनोदिन

चुपचाप

बिना कोई शोर

और

दूसरी ओर ठीक

इसी समय

कॉर्पोरेट कर में छूट !

लूट नही तो क्या है ?

 

कांवड़ की आड़ में

गंगा की किवाड़ में

अच्छे दिन की बाढ़ में

पूंजीवाद की आषाढ़ में …

 

बह मत जाना

कह मत जाना

कि

हम इसके खिलाफ हैं …

 

हम देशी हैं साहब

अपने ही देश मे …

About the Author

डॉ ज्ञान प्रकाश
असिंस्टेंट प्रोफेसर, दिल्ली विश्वविद्यालय

Be the first to comment on "हम देशी हैं साहब "

Leave a comment

Your email address will not be published.


*