SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • 13
    Shares

वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?

views
16
तस्वीर आभार- गूगल

वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?

जब सूनी सड़कों पर बेटी

हो निडर घूम – फिर पायेगी ।

वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?

 

मुखौटा पुरुषों का पहनकर

दानव वहशी बन डोल रहे

लगती नारी भोग की वस्तु

वे समझ न उसका मोल रहे ।

ऐसे विष विचारों से मुक्त

क्या धरा कभी हो पायेगी ?

वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?

 

भय नहीं जिनको राज विधि का

मान न जिनको माँ ममता का

रखकर है मनुजता किनारे

कर रहे आचरण पशुता का ।

नर तुम्हारे कलुष रूप से

कभी जगती उबर पायेगी ?

वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?

 

नन्हीं कली तोड़ दी जातीं

खिली पँखुरी मोड़ दी जाती

महकातीं जो सुमन डालियाँ

बीच राह झिंझोड़ दी जातीं ।

चमन के माली घड़ी बताओ

जब कुसुम शाख लहरायेगी !

वह सुबह कब यहाँ आयेगी

About the Author

डॉ रीता सिंह
असिस्टेंट प्रोफेसर, एनकेबीएमजी (पीजी) कॉलेज , चन्दौसी, उत्तर प्रदेश।

Be the first to comment on "वह सुबह कब यहाँ आयेगी ?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*