सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • YouTube
Loading

तेजिंदर सिंह बग्गा के गिरफ्तारी के मामले में अब तक क्या क्या हुआ?

6 मई की सुबह बीजेपी नेता तेजिंदर सिंह बग्गा को पंजाब पुलिस ने दिल्ली स्थित जनकपुरी के घर से उन्हे गिरफ्तार किया। जिसके बाद से ये मामला मीडिया और सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगा। तेजिंदर सिंह की गिरफ्तारी और सभी मीडिया प्लेटफ़ॉर्म पर ट्रेंड करने के बाद ज़ाहिर है कि राजनीति भी होगी। उनकी गिरफ्तारी के बाद बीजेपी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और पंजाब पुलिस पर बदले की राजनीतिक के आरोप लगाने शुरू कर दिये हैं।

दरअसल मार्च महीने में विवादित फ़िल्म द कश्मीर फाइल्स को टैक्स फ्री ना करने को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के विधानसभा में एक बयान दिया था, जिसमें उन्होंने फ़िल्म के निर्माताओं को ‘द कश्मीर फाइल्स’ को यूट्यूब पर अपलोड कर देने की बात कही थी। इस पर काफी विवाद हुआ था। उस बयान के बाद बग्गा ने अरविंद केजरीवाल पर अपमानजनक बयान और ट्वीट किए थे। जिसमें बग्गा ने कहा था कि अगर केजरीवाल कश्मीरी पंडितों के नरसंहार को लेकर झूठ बोलते हैं तो वह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का विरोध करेंगे, भले ही उनके खिलाफ एक या 100 एफआईआर दर्ज हो। लेकिन अगर केजरीवाल कश्मीरी पंडितों के नरसंहार को झूठ कहते हैं, तो मैं विरोध करूंगा। उन्होंने आगे लिखा, ‘अगर वह कश्मीरी पंडितों के नरसंहार पर हंसते हैं, तो मैं विरोध करूंगा, चाहे मुझे कुछ भी परिणाम भुगतने पड़ें। मैं उसका सामना करूंगा’।

इन्हीं टिप्पणियों और ट्वीट के आधार पर बग्गा के खिलाफ़ प्राथमिकी दर्ज करायी थी। पंजाब पुलिस के बयान में बताया गया कि 1 मई को पंजाब स्टेट साइबर क्राइम, एसएएस नगर की ओर से बग्गा के खिलाफ लोगों को भड़काने, हिंसा के लिए उकसाने, सोशल मीडिया पर झूठे बयान और सांप्रदायिक भड़काऊ बयान के चलते एफआईआर दर्ज की गई थी। पंजाब पुलिस ने आगे बताया कि बग्गा को जांच में शामिल होने के लिए पांच बार नोटिस भेजा गया लेकिन उन्होंने इसमें किसी प्रकार का सहयोग नहीं दिया। पुलिस का कहना है कि आज उचित प्रक्रिया के बाद बग्गा को उनके घर से गिरफ्तार किया गया है।

मामला सिर्फ़ यहीं नहीं रुका, सुबह तेजिंदर सिंह बग्गा की गिरफ्तारी के बाद मोहाली के पुलिस अधीक्षक मनप्रीत सिंह की अगुवाई में बग्गा को दिल्ली से मोहाली ले जाया जा रहा था। लेकिन इससे पहले दिल्ली पुलिस के कहने पर हरियाणा पुलिस ने दोपहर लगभग 12 बजे पंजाब पुलिस को नेशनल हाईवे-44 पर कुरुक्षेत्र के गांव खानुपर कोलियां के पास रोक लिया। पंजाब पुलिस पर अपहरण की प्रार्थमिकी भी दिल्ली में दर्ज हो गई।

वही तेजिंदर सिंह बग्गा की गिरफ्तारी पर उनके पिता प्रीतपाल सिंह बग्गा ने भी पंजाब पुलिस पर मारपीट के आरोप लगाए हैं उन्होंने कहा कि सुबह 10-15 पुलिसकर्मी हमारे घर आए और तजिंदर को घसीटकर बाहर निकाला। जब मैंने घटना का वीडियो रिकॉर्ड करने के लिए अपना मोबाइल फोन उठाया, तो पुलिस मुझे दूसरे कमरे में ले गई और मेरे चेहरे पर मुक्का मारा। हमारे घर आए पुलिस कर्मियों ने कहा कि तजिंदर ने अरविंद केजरीवाल को जान से मारने की धमकी दी।

इन आरोपों के बाद मोहाली के एसपी मनप्रीत सिंह ने कहा है कि बग्गा के खिलाफ एक अप्रैल को आईटी एक्ट सहित अलग अलग धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। उसी के तहत तेजिंदर सिंह की गिरफ्तारी की गई है। गिरफ्तारी से पहले पूरे मामले की वीडियोग्राफी करवाई गई। कोई भी नियम ताक पर नहीं रखा गया है।
आगे उन्होंने कहा कि पंजाब पुलिस के काफिले को हरियाणा पुलिस द्वारा रोके जाने का अब मोहाली जिले के पुलिस प्रमुख ने विरोध किया है। उन्होंने कुरुक्षेत्र के पुलिस प्रमुख को पत्र लिखा  इसमें कहा गया है कि बग्गा को ला रही पुलिस टीम को इस तरह से रोकना गैरकानूनी तरीके से हिरासत में लेना और आपराधिक न्याय प्रणाली में गतिरोध पैदा करना है।

इस पूरे घटनाक्रम के बीच हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने ऐलान किया कि वह बग्गा को पंजाब नहीं दिल्ली पुलिस को सौंपेंगे। अनिल विज ने एक बयान में कहा कि दिल्ली पुलिस ने कहा था कि एक किडनैपिंग हुई है। हम किसी रुकावट की तरह काम नहीं कर रहे हैं। जहां किडनैपिंग का मामला दर्ज हुआ है, उस थाने में बग्गा को भेजा जाएगा। केस दिल्ली के जनकपुरी थाने में दर्ज हुआ है। इसलिए बग्गा को जनकपुरी के SHO को सौंपा जाएगा।

दरअसल पंजाब पुलिस पर आईपीसी की धारा 452, 365, 342, 392, 295 / 34 IPC की धाराओं के तहत मामला दर्ज हुआ है।

पूरे घटनाक्रम के बाद राजनेताओं और आम लोगों ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया देनी शुरू कर दी।

कुमार विश्वास ने तजिंदर बग्गा की गिरफ्तारी के बाद  ट्वीट किया.. प्रिय छोटे भाई भगवंत मान, खुद्दार पंजाब ने 300 साल में, दिल्ली के किसी असुरक्षित तानाशाह को अपनी ताकत से कभी नहीं खेलने दिया। पंजाब ने तुम्हारी पगड़ी को ताज सौंपा है किसी बौने दुर्योधन को नहीं। पंजाब के लोगों के टैक्स के पैसों और उनकी पुलिस का अपमान मत करो… पगड़ी सम्भाल जट्टा।


उदित राज ने भी ट्वीट कर लिखा कि जिग्नेश मेवानी के बीना सबूत आसाम पुलीस को गुजरात पुलिस गिरफ्तार कराने में मदद देती है। बीजेपी के लिए कानून और है। तेजिंदर बग्गा के खिलाफ़ सबूत होने के बावजूद पंजाब पुलीस से बचा लिया। अंधेर नगरी है

एक महिला ने लिखा कि केंद्र सरकार आज फिर एक्सपोज हो गयी कि वो दंगाइयों के साथ हैं, नफरत फैलाने वालों के साथ हैं।

 

Disclaimer: इस लेख में अभिव्यक्ति विचार लेखक के अनुभव, शोध और चिन्तन पर आधारित हैं। किसी भी विवाद के लिए फोरम4 उत्तरदायी नहीं होगा।

About the Author

सुमित
सुमित वीडियो जर्नलिस्ट के साथ -साथ समसामयिक मुद्दों पर लेखन भी करते हैं।

Be the first to comment on "तेजिंदर सिंह बग्गा के गिरफ्तारी के मामले में अब तक क्या क्या हुआ?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*