SUBSCRIBE
FOLLOW US

चौपाल

आप जो ख़्वाबों में आए न होते

आप जो ख़्वाबों में आए न होते बेवज़ह हम मुस्कुराए न होते न फूल खिलते न कलियां मुस्कुरातीं भंवरे यूं गुनगुनाए न होते। आप जो ख़्वाबों में आए न होते   मौसम भी कुछ, ख़ास…

पूरी खबर पढ़ें

खुलकर हँसना मुश्किल है

खुलकर हँसना मुश्किल है दिल भी किसी का दुखता है हम तो हँसते रहते हैं पर ग़म किसी का जी उठता है   कहते-कहते कभी जब हम अचानक से चुप जाते हैं चलते-चलते राहों में…


जलियांवाला बाग हत्याकांडः कितने लोगों की मौत हुई आज भी यह सवाल है?

13  अप्रैल भारतीय इतिहास के लिए काला दिवस है। आज से सौ साल पहले 13 अप्रैल 1919 को ब्रिटिश सेना के ब्रिगेडियर जनरल डायर ने जलियांवाला बाग में जुटे निहत्थे लोगों पर गोलियां चलवा दी…


प्रेम क्या है?

प्रेम खुद को खुद से पहचानने का एक नजरिया है प्रेम आपके अंदर का विश्वास जगाने का जरिया है सन्तान जो अपने माँ – बाप से प्रेम करता है, ऊपर वाला उसका जीवन खुशियों से…