सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • YouTube
  • 57
    Shares

प्रधानमंत्री की बंगाल में रैलियां, हरिद्वार में कुंभ मेला और दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू?

भारत में कोरोना अब बेकाबू होता जा रहा है। कोरोना की दूसरी लहर लोगों के लिए ज्यादा खतरनाक है। लोगों को स्वास्थ्य सुविधाएं नहीं मिल रही हैं। अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहे हैं। यूपी, गुजरात, महाराष्ट्र और अब दिल्ली में भी कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे हैं। कहीं ऑक्सीजन सिलेंडर नहीं है तो कहीं पर वैंटिलेटर की सुविधा नहीं हैं। जहां है भी तो वहां पर्याप्त नहीं है। एक बार फिर से वहीं दृश्य आखों के सामने आ रहे हैं जो 2020 के इसी महीने में हमने देखे थे। सब लोग लॉकडाउन की वजह से अपने अपने घरों में कैद थे। बड़ी संख्या में मजदूर शहर छोड़ वापस अपने अपने गांव लौटने लगे थे। टीवी खोलेंगे तो आपको सिर्फ और सिर्फ कोरोना के बढ़ते मरीज औऱ लाचार होती हमारी स्वास्थ्य व्यवस्था ही दिखाई देंगी। लेकिन हमारे प्रधानमंत्री और गृह मंत्री बंगाल में चुनावी रैलियां करने में व्यस्त हैं। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ खुद भी कोरोना पॉजिटीव हैं। एक तरफ हरिद्वार में कुंभ मेला चल रहा है जहां रोज साधु संत कोरोना पॉजिटिव हो रहे हैं। यहां लोग गंगा में डुबकी नहीं लगा रहे हैं बल्कि कोरोना में डुबकी लगा रहे हैं। जहां बड़ी तादाद में लोग कोरोना से संक्रमित हैं तो वहीं दूसरी ओर इस तरह के कार्यक्रम की इजाजत देना क्या सही है?

आपको याद होगा पिछले साल मरकज़ में तब्लीगी जमात का कार्यक्रम हुआ था जिसके बाद कई लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए और उनकी छवि कुछ इस तरह पेश की गई थी जैसे कोरोना वायरस चीन से नहीं बल्कि तब्लीगी जमात की वजह से फैला हो। तो अब ये दोहरा रवैया क्यों अपना रही है सरकार?

वहीं दूसरी तरफ गुजरात और लखनऊ में हालात इतने बेकाबू हो चुके हैं कि गुजरात के सूरत में दो दिन पहले 25 शवों को बिना लकड़ियों के जलाया गया (न्यूज18 के हवाले से)। लोगों को अंतिम संस्कार के लिए घंटो इंतजार करना पड़ रहा है।

ऐसा लग रहा है मानो सब कुछ रिवाइंड हो रहा हो। हम ये सब लिखकर आपको डरा नहीं रहे हैं। बल्कि सचेत कर रहे हैं कि इस वक्त सावधानी बरतना बहुत जरूरी है। कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए हर राज्य ने स्थिति के अनुसार अलग अलग तरीकों से लॉकडाउन लगाया है। दिल्ली में बीते 24 घंटों में 17,282 नये मामले आए हैं और 104 लोगों की मौत हो गई। पिछले चार दिनों में 47 हजार कोरोना के मरीज मिल चुके हैं।

दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू
कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने वीकेंड कर्फ्यू का ऐलान कर दिया है। यानी कि शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक वीकेंड कर्फ्यू लागू रहेगा। इसके अलावा शादियों में फिर से पाबंदिया रहेंगी। शादियों में शामिल होने के लिए ईपास दिए जाएंगे।

सभी मॉल, जिम, स्पा, ऑडिटोरियम, बाजार और निजी दफ्तर बंद रहेंगे। सिनेमा हॉल खुलेंगे, लेकिन सिटिंग कैपेसिटी की 30% क्षमता के साथ। अब से केवल रेस्टोरेंट में बैठकर खाना नहीं खा सकते, केवल होम डिलिवरी हो सकती है। हर म्युनिसिपल जोन में रोज एक वीकली मार्केट खोले जाने की इजाजत। कर्फ्यू के दौरान शादियां अटेंड करने के लिए लोगों को कर्फ्यू पास (ई-पास) दिए जाएंगे। हॉस्पिटल, एयरपोर्ट, बस और रेलवे स्टेशन जाने वालों को वीकेंड कर्फ्यू के दौरान छूट रहेगी। इसके लिए पास लेना होगा।

राजस्थान में 12 घंटे का कर्फ्यू
इसी तरह राजस्थान में भी 16 से 30 अप्रैल तक सभी शहरों में शाम 6 बजे से सुबह 6 बजे के बीच नाइट कर्फ्यू रहेगा। यानी पूरे 12 घंटे का कर्फ्यू रहेगा। राजस्थान के मुख्यमंत्री तो ये भी कह रहे हैं कि नाईट कर्फ्यू में लॉकडाउन की तरह बर्ताव करें।

सीबीएसई ने भी रद की परीक्षाएं
कोरोना के बढ़ते असर को देखते हुए सीबीएसई ने 10वीं परीक्षाएं रद कर दी हैं और 12वी की परीक्षाएं फिलहाल टाल दी गई हैं। आदेश के मुताबिक, 4 मई से 14 जून तक होने वाली 12वीं की परीक्षाओं को रद्द कर दिया गया है। 1 जून को एक और बैठक होगी, जिसमें तब के हालात को देखते हुए फैसला लिया जाएगा।

Disclaimer: इस लेख में अभिव्यक्ति विचार लेखक के अनुभव, शोध और चिन्तन पर आधारित हैं। किसी भी विवाद के लिए फोरम4 उत्तरदायी नहीं होगा।

About the Author

कोमल कश्यप
कोमल स्वतंत्र रूप से पत्रकारिता के क्षेत्र में कार्य कर रही हैं।

Be the first to comment on "प्रधानमंत्री की बंगाल में रैलियां, हरिद्वार में कुंभ मेला और दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*