सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • 60
    Shares

नागरिकता कानून का विरोध कर रहे लोगों को शाहीन बाग क्यों लुभा रहा है?

“The first duty of a revolutionary is to be educated””

यह क्यूबा के एक क्रांतिकारी चे ग्वारा का कोट है जिसका अर्थ है “किसी भी क्रांतिकारी का सबसे पहला कर्तव्य शिक्षा प्राप्त करना होता है”। शाहीन बाग़ में नागरिकता कानून और एनआरसी के विरुद्ध प्रदर्शन कर रही महिलाओं और पुरुषों को यह बात समझाने के लिए कुछ ज़िंदादिल लोगों ने “रीड फ़ॉर रेवोलुशन”  नाम से एक शुरुआत की है।

“रीड फ़ॉर रेवोलुशन” दिल्ली के शाहीन बाग़ में प्रदर्शन स्थल के एक कोने में लगा हुआ एक छोटा सा स्टॉल है। यह स्टॉल प्रदर्शन कर रहीं महिलाओं के ज्ञानोत्सर्जन के मक़सद से लगाया गया है। इस स्टॉल पर हिंदी, अंग्रेज़ी, उर्दू साहित्य, इतिहास, राजनीति, सोशियोलॉजी से लेकर बच्चों की कहानियों की किताबें तक मौजूद हैं। कोई भी शख़्स इस स्टॉल पे जा कर किताबों को पढ़ने का आनंद उठा सकता है। यह स्टॉल सुबह से लेकर रात तक खुला रहता है। यहाँ बैठ कर इत्मीनान से किताबें पढ़ रही औरतों, बच्चों और बूढ़ों को देखकर एक अलग ही सुख की अनुभूति होती है। यहाँ आकर पढ़ने वाले लोगों की तादाद भी दिनोंदिन बढ़ रही है। अगर आप चाहें तो इस स्टॉल पर किताबें भी डोनेट कर सकते हैं। इस मुहिम की शुरुआत करने वाले ओसामा ज़ाकिर, नईम सरमद और शाहबाज़ रिज़वी की ख़ूब तारीफें की जा रही हैं और इस मुहिम से रोज़ नए और पढ़ने वाले लोग भी जुड़ रहे हैं।

शाहीन बाग़ में क्यों हो रहा है प्रदर्शन ?

शाहीन बाग़ में 15 दिसम्बर से नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर के विरोध में प्रदर्शन किया जा रहा है। यह प्रदर्शन जामिया विश्वविद्यालय में पुलिस द्वारा की गई बर्बरता के बाद शुरू हुआ था। 15 दिसम्बर से ही महिलाएं यहाँ सड़क पर बैठी हुई प्रदर्शन कर रही हैं। 2 डिग्री की हड्डियां गलाने वाली ठंड में भी सड़क पर बैठी इन महिलाओं का जज़्बा देखने लायक है। छोटी बच्चियों से लेकर 95 साल तक कि बूढ़ी औरतें भी इस प्रदर्शन में शामिल हैं। अभिनेता ज़ीशान अय्यूब से लेकर शायर इमरान प्रतापगढ़ी तक कई हस्तियां यहां अपनी उपस्थिति दर्ज करा चुके हैं।

शाहीन बाग़ कौन लोग जाना पसंद करेंगे ?

आप अगर नागरिकता कानून का विरोध कर रहे हैं या समझना चाहते हैं कि नागरिकता कानून का विरोध क्यों किया जा रहा है तो आपको शाहीन बाग़ में दिख सकता है कि प्रदर्शन के साथ-साथ लोगों को जागरूक कैसे किया जा रहा?

कैसे पहुँचें शाहीन बाग़ ?

आप शाहीन बाग़ या कालिंदी कुंज मेट्रो स्टेशन से उतर कर पैदल प्रदर्शन स्थल तक पहुँच सकते हैं। आप यहाँ बस के द्वारा भी पहुँच सकते हैं इसके लिए आपको ओखला विहार के लिए बस लेनी होगी।

About the Author

यासिर
स्वतंत्र पत्रकार

Be the first to comment on "नागरिकता कानून का विरोध कर रहे लोगों को शाहीन बाग क्यों लुभा रहा है?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*