सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • YouTube

ललक

युवा लेखक ने लिखा कोरोना महामारी पर दुनिया का पहला उपन्यास!

कोविड-19 से पूरा विश्व चपेट में है। इस वैश्विक महामारी ने दुनिया को एक जैसी स्थिति में लाकर खड़ा कर दिया। ज्यादातर देशों को लॉकडाउन ही इसका समाधान भी दिखा। इसी लॉकडाउन में कई लोगों…

पूरी खबर पढ़ें

पुस्तक समीक्षा- कविता के कैनवास पर जीवन के रंगों का समावेश

पुस्तक का नाम: किस नगर तक आ गये हम। कवि : अजय पाठक। प्रकाशक : श्री प्रकाशन, A – 14, आदर्श नगर, दुर्ग (छत्तीसगढ़), मूल्य – 250 रुपये। कविता यथार्थ और रोमांस के सहारे ही…


“एक विदुषी पतिता की आत्मकथा” की संपादक व अनुवादक डॉ. मुन्नी गुप्ता से साक्षात्कार

आज हम साहित्य जगत से डॉ. मुन्नी गुप्ता से रूबरू करा रहे हैं।  डॉ. मुन्नी गुप्ता साहित्यकार एवं अनुवादक हैं। प्रस्तुत है डॉ. मुन्नी गुप्ता से पत्रकार राजीव कुमार झा की बातचीत। राजीव कुमार झा…


हिंदी लेखन को नारीवाद ने कितना प्रभावित किया है, बिहार की कवयित्री डॉ. मीरा से जानिए!

बिहार के आरा की निवासी मीरा श्रीवास्तव की पहचान हिंदी लेखन में मूलत कवयित्री के रूप में है, लेकिन इन्होंने आलोचनात्मक लेखन भी किया है।  प्रस्तुत है इनसे राजीव कुमार झा की बातचीत, लेकिन उससे…