सहायता करे
SUBSCRIBE
FOLLOW US
  • YouTube
  • 87
    Shares

कोरोना वायरस से अभी तक देश में क्या-क्या हुआ?

तस्वीर - गूगल साभार

चीन के वुहान से फैला कोरोना वायरस आज विश्वभर में अपने पैर पसार चुका है। चीन ने तो अपने यहां स्थिति काबू कर ली है लेकिन चीन के बाद इटली, इराक में स्थिति बेहद नाजुक है। Covid-19 बीमारी से अब तक दुनिया में तक़रीबन 11,000 लोगों की मौत हो चुकी है और ढाई लाख लोग इससे संक्रमित पाए गए हैं। भारत में कोरोना के अब तक 282 मामलों की पुष्टि हो चुकी हैं। महाराष्ट्र में 52, केरल में 40, दिल्ली में 26, राजस्थान में 17 मामले सामने आए हैं और 14,811 लोगों की जांच की गई।

भारत में भी कोरोना वायरस के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। इसकी कोई वैक्सीन या दवा अभी तक नहीं बन पाई है पर कोशिश जारी है। भारत अभी दूसरे चरण में है सावधानी नहीं बरती गई तो हमें तीसरे चरण में पहुंचने में ज्यादा समय नहीं लगेगा। कोरोना वायरस की चपेट से लोगों को बचाने के लिए सरकार पूरी कोशिश कर रही है। वहीं मशहूर सिंगर कनिका कपूर भी कोरोना वायरस पॉजिटिव पाई गई हैं। उन्होंने ये जानकारी खुद 20 मार्च को दी है। लखनऊ में संक्रमण होने के बाद भी वो लखनऊ के एक पार्टी में शामिल हुईं। इस पार्टी में वसुंधरा राजे के पुत्र दुश्यंत सहित तमाम ऐसे लोग मौजूद रहे, जो संसद तक घूम चुके थे। इसके बाद लखनऊ से लेकर संसद तक हड़कंप मच गया है।

क्या कनिका ने दूसरों की जान को डाला संकट में ?

दरअसल कनिका कपूर 9 मार्च को लंदन से भारत लौटी थी और वे कोरोना वायरस से संक्रमित पाई गईं। कनिका कपूर के ख़िलाफ़ उत्तर प्रदेश पुलिस ने लापरवाही भरा रवैया अपनाने के लिए एफ़आईआर दर्ज की है। उनके ख़िलाफ़ आईपीसी की धारा 188, 269, 270 के तहत मामला दर्ज किया गया है। इन धाराओं के तहत लापरवाही बरतने और संक्रमण फैलाकर दूसरों की जान संकट में डालने का मामला बनता है। कनिका ने अपनी सफाई में कहा कि एयरपोर्ट पर उनकी थर्मल स्क्रीनिंग भी हुई थी, लेकिन तब तक Covid-19 के लक्षण सामने नहीं आए थे।

वसुंधरा राजे सहित दुष्यंत के संपर्क में आने वाले सांसदों ने खुद को किया आइसोलेट

लंदन से आने के बाद कनिका कपूर ने लखनऊ में दो-तीन बड़ी पार्टियों में बतौर कलाकार हिस्सा लिया था। इनमें बड़ी संख्या में लोग शामिल थे। राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने स्वीकार किया है कि वह और उनके बेटे दुष्यंत सिंह लखनऊ में बॉलीवुड की मशहूर सिंगर कनिका कपूर की पार्टी में शामिल हुए थे। हालांकि दोनों नेता अब सेल्फ-आइसोलेशन में हैं। इसके साथ ही इन लोगों से मिलने वाले सासंद अनुप्रिया पटेल और संजय सिंह ने भी खुद को 14 दिनों के लिए आइसोलेट कर लिया है।

मास्क और सेनिटाइज़र की तय हुई नई क़ीमतें

भारत में कोरोना वायरस के कदम रखते ही जरूरी सामान जैसे मास्क और सेनिटाइज़र बाजारों में कालाबाजारी शुरू हो गई थी जो मास्क 8 रुपये का है उसकी मुंह मांगी कीमत दुकानदार वसूल कर रहे थे। लेकिन, सरकार ने इसकी काला बाजारी को रोकने के लिए इसकी कीमतें तय कर दी हैं।

उपभोक्ता मामलों के केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने बताया कि सरकार की ओर से विभिन्न फेसमास्क और हैंड सेनिटाइजर की कीमतें तय की गई हैं। इसके मुताबिक 2 प्लाई मास्क की अधिकतम क़ीमत आठ रुपये प्रति मास्क होगी जबकि 3 प्लाई मास्क की अधिकतम क़ीमत दस रुपये प्रति मास्क से अधिक नहीं होगी। हैंड सेनिटाइजर की 200 मिली. की कीमत 100 रुपये से अधिक नहीं होगी। ये कीमतें 30 जून तक पूरे देश में लागू रहेंगी।

22 मार्च को भारत में जनता कर्फ्यू

प्रधानमंत्री मोदी ने 19 मार्च को रात 8 बजे लोगों से ये अपील की थी कि 22 मार्च को देश के सभी लोग सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करें। प्रधानमंत्री ने जनता से कहा है कि सभी लोग घरों में रहे, जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें। कोरोना वायरस के कारण दिल्ली की सड़कों पर सन्नाटा है, दुकाने खाली है, रेस्तरां खाली है। सबके कारोबार ठप्प हो चुके हैं।

नोएडा की एक सोसायटी को किया गया लॉकडाउन

आज दिल्ली से सटे नोएडा की एक सोसायटी में कोरोना पॉजेटिव मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने बड़ा कदम उठाया। इस सोसायटी को दो दिन के लिए सील या लॉकडाउन कर दिया गया है, अब न यहां कोई अंदर आ सकेगा, न कोई बाहर जा सकेगा। यह मामला नोएडा सेक्टर 74 की केपटाउन सोसायटी का है। इस सोसायटी में कुल 4500 फ्लैट हैं और 20 हजार लोग यहां रहते हैं। यह मामला सामने आने के बाद सोसायटी में दहशत का माहौल है और लोग घबराए हुए हैं। सोसायटी को बंद करने का आदेश डीएम की तरफ से आया है। यह शख्स फ्रांस से लौटा था। लॉकडाउन के दौरान जरूरी सेवाओं की पूर्ति को नहीं रोका जाएगा।

कई बड़े मदिरों को किया गया बंद

भारत में कई बड़े मंदिर 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिये गये हैं। वाराणसी के संकट मोचन हनुमान मंदिर को कोरोना वायरस के चलते 25 मार्च तक बंद किया गया। जबकि गोरखपुर के गोरखनाथ मंदिर को 31 मार्च तक के लिए बंद किया गया। भारत में शैक्षणिक संस्थानों, मॉल्स, रेस्त्रां और सिनेमाघर को पहले ही 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिया गया था। लोगों से घरों में रहने की अपील की गई है।

योगी सरकार श्रमिकों को देगी रोजाना 1000 रुपये

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को लोगों से कोरोना वायरस को लेकर भयभीत नहीं होने की अपील की है। उन्होंने कहा कि हमारे पास जरूरी चीजों और दवाइयों को पर्याप्त स्टॉक है। इसलिए सामान खरीदने के लिए दुकानों में भीड़ नहीं लगाएं और सामान की जमाखोरी न करें। मुख्यमंत्री ने ऐलान किया कि 15 लाख दिहाड़ी मजदूरों और कंस्ट्रक्शन क्षेत्र के 20.37 लाख श्रमिकों सभी को अपनी रोजाना की जरूरतें पूरी करने के लिए 1000 रुपये दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बताया है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए एहतियात बरते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य में पर्याप्त मात्रा में आइसोलेशन वॉर्ड बनाए गए हैं। उनके मुताबिक प्रदेश में संक्रमण के 23 मामले सामने आए थे, जिनमें से 9 ठीक हो चुके हैं।

विश्व भर में कोरोना वायरस का प्रकोप

इटली में 20 मार्च को कोरोना वायरस से एक दिन में 627 लोगों की मौत हो गई। यहां तक कि ये आंकड़ा संक्रमण के केंद्र चीन में होने वाली मौतों से भी ज़्यादा है। इटली में कोरोना वायरस संक्रमण की चपेट में आकर अब तक कुल 4032 लोगों की मौत हो चुकी है। कोविड 19 की वजह से होने वाली मौतों का यह आंकड़ा किसी भी अन्य देश से ज़्यादा है और ये आंकड़ा लगातार बढ़ता ही जा रहा है। चीन में कोरोना की वजह से होने वाली कुल मौतों का आधिकारिक आंकड़ा 3,245 है। हालांकि इस आंकड़े की विश्वसनीयता पर भी सवाल उठाए जा रहे हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन की ओर से दी गई चेतावनी

बहुत से लोग खुद को इसके खतरे को हल्के में ले रहे हैं, खासकर युवा वर्ग। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि युवाओं की रोग प्रतिरोधक क्षमता कोरोना वायरस से मुक्त नहीं है इसलिए वो ज़्यादा घुलने-मिलने से बचें और कमज़ोर एवं बूढ़े लोगों से बात करने में परहेज़ करें। डब्ल्यूएचओ प्रमुख की टिप्पणी उन रिपोर्ट्स के सामने आने के बाद आई है जिनमें कहा गया था कि बहुत से देशों में युवा स्वास्थ्य चेतावनियों को लेकर चिंतित नहीं हैं क्योंकि ऐसा कहा जा रहा था कि ये वायरस केवल बूढ़े लोगों को अधिक अपनी चपेट में लेता है।

जेनेवा में डब्ल्यूएचओ मुख्यालय से ऑनलाइन न्यूज़ कॉन्फ़्रेंस के ज़रिए बोलते हुए गिबरियेसोस ने कहा कि बूढ़े लोगों पर इसका अधिक प्रभाव पड़ा है लेकिन युवा लोग भी इससे बचे हुए नहीं हैं। उन्होंने कहा, “युवा लोगों के लिए मेरे पास संदेश है। आप अजेय नहीं हैं, यह वायरस आपको हफ़्तों के लिए अस्पताल पहुंचा सकता है या मार भी सकता है। अगर आप बीमार भी नहीं पड़ते हो लेकिन फिर भी आप किसी के लिए ज़िंदगी और मौत का सबब बन सकते हो।”

कोरोना वायरस को हल्के में न लें। अधिकतर लोग अपने ऑफिस की छुट्टी, बच्चों के स्कूल की छुट्टी का इस्तेमाल बाहर घूमने में कर रहे हैं जबकि सरकार की ओर से ये बार-बार कहा जा रहा है कि घर से बाहर जरूरत पड़ने पर ही जाएं। आपकी एक लापरवाही कई लोगों को संक्रमित कर सकती है, कई लोगों की मौत का कारण बन सकती है। हमारी भी आपसे अपील है कि आप घर में ही रहें।

Be the first to comment on "कोरोना वायरस से अभी तक देश में क्या-क्या हुआ?"

Leave a comment

Your email address will not be published.


*